Download Our App

प्रकाश स्मृति कम्पनी खरगोन का भोपाल में ई डब्ल्यू ओ में प्रकरण दर्ज

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

[the_ad id='14901']
  1. खरगोन -*जो कहा था कर दिखाया धन्यवाद एस पी साब , आपको निमाड़ के गरीब , किसान , मजदूर और छोटे व्यापारियों की खूब दुआए मिलेगी*

    खरगोन – प्रधानमंत्री कार्यालय दिल्ली में प्रकाश स्मृति , तंजीम ए जरखेज और प्रोफेसर पी सी फाउंडेशन की शिकायत दर्ज होने के बाद , वह शिकायत मध्यप्रदेश के सी एम हेल्प लाइन में दर्ज हो गई , उसकी जांच एस डी ओ पी राकेश मोहन शुक्ला ने की , एक 12 पेज की शिकायत मेने श्री एस पी साहेब को भी दी थी , मुझे बुलाया था एस पी साहेब ने और कहा था इस मामले को हम ई डब्ल्यू ओ में दर्ज कराएंगे ! रविशंकर महाजन शिक्षक की तीनो कम्पनी का मामला अब भोपाल के ई डब्ल्यू ओ में पंजीकृत हो गया है , मैं तो इसका पूरा श्रेय हमारे खरगोन के श्री धर्मवीर जी को ही दूंगा , मेने एस पी साहेब के बारे में अनेक बाते सुनी है उनकी सुबह से देर रात की जीवन शैली की जानकारी मुझे अनेक माध्यमों से प्राप्त हो जाती है बेहद ईमानदार और नेक इंसान है हमारे खरगोन के एस पी साहेब , दीपावली पर उनके निर्देश थे गरीब व्यक्ति को रोड पर व्यापार करने पर परेशान ना किया जाए , बंगले के कर्मचारी के बारे में पता चला ऐसे साहेब पहली बार आए है खरगोन में जो हमे इतना अधिक सम्मान देते है !
    किंतु एस पी साहेब मुझे एक कांग्रेस के पत्रकार ने कहा एक करोड़ रुपए में सेटिंग ई डब्ल्यू ओ में हो जायेगी और जांच आठ वर्षो तक चला करेगी , खरगोन के प्रख्यात राजकुमार पाठक वकील और मैं कक्षा पहली से आठवीं तक साथ में पढ़े है ,बेहद पारिवारिक संबंध है मेरे राजू भाई से , मेरे 138 के दस प्रकरण उन्होंने बिना फीस लिए निपटाए और सामने वाले वकील के मेरे सामने हाथ जोड़ दिए और बोले मेरा मित्र है संतोष ….बहुत कर्ज में आ गया है समझोता कर लो और किश्तों में पैसा ले लो , सभी वकील ने राजू भाई की बात मानी और बिना पैसे लिए मेरे सभी 138 के केस निपटाए , इसीलिए तो एस पी साहेब मेने आपको मेरी 12 पेज की शिकायत में लिखा है की प्रकाश स्मृति कम्पनी सेक्शन 8 में दर्ज है और ये अपने सदस्य से कोरे चेक नही ले सकती और उन कोरे चेक पर खुद दिनांक , अपनी कम्पनी का नाम , ब्याज सहित राशि लिखकर , मेंबर के खाते में लगाकर , उसे तो बाउंस होना ही है क्युकी उसने तो चेक दिया ही नहीं , रवि शंकर ने लोन देते वक्त जो 12 चेक वर्षो पूर्व लिए थे उसका दुरुपयोग किया कम्पनी ने !
    जबकि 138 की धारा का जुर्म जब बनता है जब चेक देने वाला खुद सामने वाले को चेक देकर बाउंस करा दे जबकि प्रकाश स्मृति कम्पनी के कुछ परेशान मेंबर कर्ज नहीं दे पाए तो रवि शंकर ने प्राइवेट फाइनेंसर वाली स्टाइल में चेक लगा कर न्यायालय को गुमराह किया क्युकी न्यायालय में कम्पनी ने यह बताया है की चेक ऋण धारक ने दिया जबकि ऋण धारक ने चेक कम्पनी को नही दिया उसने तो कोरे चेक पर साइन करके दे दिए !
    बस एस पी साब अब दस महीने हो गए मुझे तीन कम्पनी के बारे में लिखते लिखते …मेरी धर्मपत्नी पूछती है क्या अपने को पैसे मिलेंगे ?
    मैं उसे कहता हूं पैसे को छोड़ो , रणजीत डंडीर ने अपने पे मानहानि का तीन करोड़ का दावा लगाया है , जेल भी जाना पड़ सकता है , वकील को फीस भी देनी होंगी , केस हार गए तो तीन करोड़ रुपए भी अरबपति रणजीत को देना पड़ेंगे !
    खरगोन और पूरे पश्चिम निमाड़ की जनता सहारा कम्पनी और हरियाणा की फ्यूचर मेकर में करोड़ो रुपए दे चुकी है अब उनसे तो जनता लड़ नही सकती किंतु ये तीन कम्पनी के सात महाजन डायरेक्टर खरगोन के ही है तो कम से कम इन तीन कम्पनी का पैसा तो जनता को मिले !
    बस एस पी साहेब आप तो विधानसभा चुनाव से पहले ये तीनों कम्पनी का मामला कलेक्टर को दिला दे या सारे शेयर होल्डर का पैसा ब्याज सहित रवि वापस करें क्युकी अतीक अहमद ने कोर्ट में 44 साल निकाल दिए और मरने के बाद उसने लोकसभा में श्रद्धांजली भी ले ली , किंतु हमारा काम चुनाव से पहले हो जाए तो बी जे पी को वोट मिल जायेंगे लेकिन केवल दिखाने के लिए शिकायत दर्ज हुई हो तो जनता निराश जो जायेगी ! खरगोन संतोष न्यूज ! 9826229657

Leave a Comment