Download Our App

तीस परसेंट लेने की खबर , खरगोन नगरपालिका के खरगोन के काम में !

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

[the_ad id='14901']

खरगोन – जय हो भारतीय जनता पार्टी की सरकार !
जय जय सियाराम मस्तक पर चंदन
भगवान का नाम
कट्टर हिंदू के नाम पर
गर्व से कहो हम हिंदू है का नारा बोलने वाले खरगोन के हिंदू समाज ने नगर पालिका की भारतीय जनता पार्टी से जुड़ी अध्यक्ष महोदया से यह सवाल पूछना चाहिए की ये तीस परसेंट पैसा , तीस परसेंट यानी एक लाख के काम ने तीस हजार , दस लाख के काम में तीन लाख ….
इसे ही काला धन कहते है बंधुओ !
खरगोन के एक पत्रकार मनीष ने खरगोन में बनने वाले सिंह द्वार के बारे में एक अखबार ने लिखा की इसके ठेकेदार इसलिए बदल रहे है क्युकी तीस परसेंट वाला मामला है !
भगवान भोलेनाथ के डोले में नगरपालिका अध्यक्ष भगवान भोलेनाथ का स्वागत करती है , भोलेनाथ के हाथ जोड़ती है तो आम जनता के मन में ऐसा भाव आता है की भारतीय जनता पार्टी के जो लोग है ये बहुत अच्छे और ईमानदार है !
भगवान सिद्धनाथ महादेव का जो द्वार बन रहा है उसका जो ठेका जिस ठेकेदार को देते है तो उसे बिल तो पूरा देना पड़ता है जितने का ठेका हुआ , बाकायदा मोदी जी की नंबर एक की व्यवस्था का उपयोग होता है जेसे बकायदा ठेकेदार का बिल नगरपालिका में फाइल होगा , बकायदा उस बिल का पेमेंट अकाउंट से अकाउंट जायेगा !
बाकायदा जो भी सरकार का जी एस टी ठेकेदार सरकार को देगा …
बाकायदा आयकर विभाग में भी ठेकेदार बताएगा की मेने इतने लाख में नगरपालिका खरगोन से ठेका लिया और इसका पूरा काम नंबर एक में बताकर सी ए से उसका आडिट भी हो जायेगा !
अब बंधुओ , एक बार खरगोन के पत्रकारों ने उस ठेकेदार का स्टिंग आपरेशन करना चाहिए जो नगद रूप में 500 के नोट की गड्डी नगरपालिका के संबंधित हो देता है और यदि वह अन्य किसी के खाते से अन्य किसी खाते में पैसा देता हो तो उस सिस्टम का पता लगाना चाहिए की आखिर कालाधन बेइमान नेता लेते केसा है ?
बंधुओ , इस समय देश बहुत ही गंभीर स्थिति से गुजर रहा है , भारत की बढ़ती प्रगति से चाइना और अमेरिका दोनो चिंतित है , अमेरिका नही चाहता उसका दबदबा विश्व में कम हो , और चाइना चाहता है गरीब देश मुझसे ब्याज पर पैसा लेते रहे मैं उनकी जमीन पर मेरी योजनाएं चलाता रहू और मेरी विस्तारवादी नीति ऐसी ही चलती जाय !
बंधुओ , नरेंद्र मोदी की सरकार ने पूरे विश्व को अपना कुटुंब माना और छोटे छोटे गरीब देशों को कोरोना में दवाइया और वेक्सीन देकर मानव धर्म निभाया किंतु मानव धर्म विश्व में निभाने के चक्कर में वे भारत में मानव धर्म की आड़ में मजे लेने वाले बाबाओ के गंभीर गलत कामों पर नजर रखने में मात खा गए !
आशाराम की अभी तक जमानत नही हुई यह एक अच्छी बात है क्युकी आशाराम जी स्वयं एक समानांतर सरकार चलाने लग गए थे , ब्याज पर पैसा देने लग गए थे , बंधुओ , धन जब अधिक बढ़ता है तो उसमे अनेक विसंगतियां प्रवेश करती है , इंदौर पुलिस ने जब आशाराम का इंदौर आश्रम देखा तो पुलिस की आंखे फटी रह गई , इतना बड़ा स्विमिंग पूल , ऐशो आराम जिसे आश्रम कहा जाता है , इंदौर के पत्रकारों ने लिखा था , बाबा आशाराम इतने होशियार थे की उनको मालूम था मेरा कोई चुपके से वीडियो बना सकता है इसलिए कमरों की पूरी दीवारे प्लेन रखी गई थी !
किंतु उस ईश्वर का खेल बहुत निराला है साब , कितना भी सफाई से शातिर अपराधी काम करे ईश्वर को वह धोखा नहीं दे सकता !
उत्तरप्रदेश के हाथरस की घटना के बारे में भारत के सभी हिंदू समाज ने यह प्रचारित करना चाहिए हम सब अपने जीवन की परेशानी के लिए बाबा के पास नही नेताओ को पकड़े क्युकी ये नेता हमसे वोट ले लेते है किंतु हमारे जीवन की तकलीफों को नही देखते !
भारत में बाबाओं का साम्राज्य खरबों रूपयो का है एक समानांतर सरकार चला रहे है बाबा लोग , मोदी सरकार के पिछले दस सालो में देश ने बाबाओं के साम्राज्य को बहुत अधिक बढ़ते देखा है !
आमिर खान के बेटे जुनेद ने एक साहसी पत्रकार बनकर ऐसे ही बाबाओं को कोर्ट में खड़ा कर दुनिया को बताया की शब्द ब्रम्ह है और शब्द की ताकत का सही इस्तेमाल दुनिया में क्रांति ला सकता है !
किंतु बंधुओ , उसी शब्द शक्ति का गलत उपयोग वर्णशंकर राहुल ने किया और विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र के भारत के मंदिर में झूठ बोला , बंधुओ भारत का मंदिर है , हमारा संसद भवन जहा पर राहुल गांधी ने झूठ बोला की अग्निवीर को शहीद का दर्जा नहीं है , राजनाथ जी ने तुरंत बोला और उनके झूठ का पर्दाफाश हुआ , एम एस पी पर राहुल ने झूठ बोला और शिवराज जी ने उनके झूठ का पर्दाफाश किया , ओवैसी जय फिलिस्तीन भारत के मंदिर में बोल गया !
बंधुओ , अब जनता के समक्ष प्रश्न यह है की ये नगरपालिका का तीस परसेंट लेने वाले को वोट दे या जो साढ़े आठ हजार महीना दे रहा है उसको दे …
दस वर्ष में भारतीय जनता पार्टी के जिन नेताओं ने तीस परसेंट लिया वे नई संसद में नही जा पाए , किंतु जनता को झूठ बोलने वाले इसलिए संसद पहुंच गए क्युकी उन्होंने जनता को पैसा देने की बात कहकर मूर्ख बना दिया और अब बदला लेने का अवसर तो पांच वर्ष बाद ही आएगा इसलिए बेचारे गरीब लोगो से फार्म भरवा लिए और गरीब फिर ठगा गया , हाथरस की घटना और कांग्रेस के साढ़े आठ हजार की घटना में चिंतन किया जाय तो जनता को केवल पैसा चाहिए उसकी समस्या को हल करने वाला चाहिए !
इसका मतलब यह हुआ की पिछले दस वर्षो में मोदी सरकार भारत की गरीब जनता का सम्पूर्ण हल करने में विफल रही है !
एक बात और बंधुओ , तीस परसेंट काला धन अतिरिक्त लेने से सरकार के सारे आंकड़े स्वतः गलत हो जाते है , आइए एक उदहारण से समझे सरकार ने दस करोड़ का किसी कार्य का ठेका दिया , ठेका उसी को मिलेगा जो तीन करोड़ नंबर दो का काला धन देगा …
अब सरकार के पास इंट्री ये जायेगी की सरकार ने दस करोड़ का काम किया , दस करोड़ का जी एस टी मान लो 18 परसेंट से एक करोड़ 80 लाख रुपए…..
अब जी एस टी संग्रह बढ़ा , आम जनता को लगेगा की लोग बहुत ईमानदारी से टेक्स दे रहे है
किंतु ठेकेदार ने एक करोड़ अस्सी हजार और तीन करोड़ कुल चार करोड़ अस्सी लाख रुपए उसी काम में अतिरिक्त जोड़ दिए जेसे इसे इस तरह समझे जेसे उसने काम देखा काम तो केवल पांच करोड़ का था किंतु विभाग को तीन करोड़ की रिश्वत और सरकार को जी एस टी देना था तो उसने लागत दस करोड़ बता दी पांच करोड़ के काम की , अब देखिए तमाम झूठे लोगो के कारण आम आदमी के टेक्स का पैसा केसा सब लूट रहे है अब काम की गुणवत्ता की बात करे जब रिश्वत ली है तो भय के कारण ठेकेदार को विभाग कुछ बोल भी नहीं सकता , ठेकेदार पांच करोड़ के काम को सस्ते ठेकेदार को ढाई करोड़ में दे देता है उसने भी ढाई कमा लिए ! कारम डेम में ऐसा ही हुआ , शिवराज सरकार में दिल्ली की ब्लेक लिस्टेड कम्पनी को शिवराज ने ठेका दिया , उसने अन्य कम्पनी को दे दिया , फिर उसने अन्य को दे दिया , बंधुओ सोशल मीडिया की ताकत ने ही कारम डेम की पोल खोली एक जागरूक ग्रामीण ने उसका वीडियो बनाकर सी एम हेल्प लाइन में डाल दिया !
देश बहुत गंभीर स्थिति में पहुंच चुका है , देश में गलत लोग , जय फिलिस्तीन बोलने वालो का बोल बाला है , खरगोन में आयकर विभाग को विशेष रूप से मुसलमान जो प्रापर्टी हिंदू समाज की खरीद रहे है उस पर सबसे अधिक आयकर विभाग और रजिस्ट्रार विभाग ने ध्यान देना चाहिए क्युकी भारत में गजवा ए हिंद की तैयारी बहुत जोरो से चल रही है !
गुरुद्वारा मार्ग खरगोन के दस हिंदू समाज की दस मुसलमानों ने करोड़ो की प्रापर्टी इसलिए खरीद ली क्युकी मुसलमान खरीददार हिंदू से अधिक पैसा देता है , और बड़े दुख की बात है बंधुओ , जब मुसलमान प्रापर्टी खरीद का या प्रापर्टी किराए का हिंदुओ से अधिक पैसा देता है तो हिंदू समाज फिर मुसलमानों से भेद नहीं करता , वो कट्टर हिंदू जो बेबी आइल मील को मोबाइल लगाकर कहते है मुसलमान को तेल मत दो उन्हे खास रूप में उन हिंदुओ को समझना चाहिए की ज्यादा लाभ के बदले अपनी प्रापर्टी मुसलमानों को मत बेचो ….
मुसलमान जब हिंदुओं की अधिक प्रापर्टी जिस भी क्षेत्र में खरीद लेते है तो अन्य हिंदू केवल मुसलमानों की खरीदी के कारण अपनी भी प्रापर्टी मुसलमान को बेचने लगते है और धीरे धीरे फिर ज्योति नगर पूरा मुसलमानों का हो जाता है !
मुसलमान दुकान का किराया एक लाख पंद्रह हजार रुपए महीना दे उससे शिकायत नहीं है मेरी मुसलमान भी नंबर एक में दे और हिंदू भी नंबर एक में ले !
क्युकी दोनो सरकार के टेक्स की चोरी कर रहे है , अब ये जो चोर है इनकी खबर , इनकी फोटो कभी भी सोशल मीडिया , अखबार , टी वी में नही आती , सोशल मीडिया , अखबार और टी वी में केवल गरीब की तस्वीरे आती है !
एक बड़े व्यापारी पर 30 इनकम टैक्स अधिकारी यो ने छापा मारा किंतु उसके बाद क्या हुआ मीडिया से खबर गायब है क्युकी मामला बड़े लोगो का है !
*अमीर और गरीब पर बड़ी बड़ी बाते करने वाली भारतीय जनता पार्टी की सरकार इस भेद को कम नहीं कर सकी*
आखिर इस देश का भविष्य क्या है ?
बस एक ही उपाय है
राजनीति में मोदी जेसे ईमानदार लोगो का होना !
*संतोष न्यूज खरगोन*

Leave a Comment