Download Our App

कम्पनी एक्ट का खरगोन की तीन कंपनियों ने किया दुरुपयोग

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

[the_ad id='14901']

खरगोन – मित्रो , जिस मस्तक पर टीका लगा है , इस शक्स का नाम रणजीत सिंह डंडीर है , भारतीय जनता पार्टी का अरबपति भू माफिया ….
जिला सहकारी बैंक में जब रणजीत अध्यक्ष थे , रवि शंकर महाजन की एक कम्पनी को 2 करोड़ की सी सी लिमिट बनाई थी , बाद में रणजीत प्रोफेसर पी सी फाउंडेशन कम्पनी के अध्यक्ष बन गए और आज भी रणजीत उसी कम्पनी के अध्यक्ष है , इस कंपनी के पास गोगावा ब्लाक की लगभग 500 एकड़ जमीन है इस जमीन का मार्केट रेट सूत्र बताते है डेढ़ करोड़ रुपए एकड़ हो गया है , पास में जो चित्र है वह खरगोन के प्रोफेसर स्वर्गीय श्री प्रकाश चंद्र महाजन के सुपुत्र रवि शंकर महाजन है , अचानक श्री प्रकाश चंद्र महाजन की खरगोन कालेज में प्रोफेसर रहते हुए शांत हो गए तो राज्यपाल ने रवि शंकर की अनुकम्पा नियुक्ति सीधे खरगोन हायर सेकेंड्री स्कूल के क्रमांक दो में गणित यू डी टी पद पर कर दी …
आपको जानकर आश्चर्य होगा 27 साल से रवि इसी स्कूल में है इसका कोई ट्रांसफर भी नही करा सका !
इस रविशंकर ने आज से 27 वर्ष पहले खरगोन के अनेक लोगो को एक कम्पनी का अभिकर्ता बनाया , एक शेयर होल्डर बनाने के उन्हे 150 रुपए दिए जाते , प्रकाश स्मृति कम्पनी के नाम से रविशंकर ने लगभग तीस हजार पेंपलेट प्रिंट कराए जिस पर उसके पिता श्री प्रकाश चंद्र का फोटो था , मित्रो आपको जानकर आश्चर्य होगा की 27 साल बाद जब इस कंपनी की प्रधान मंत्री कार्यालय दिल्ली शिकायत दर्ज हो गई , शिकायत वहा से सी एम हेल्प लाइन पर 6 नवंबर पर दर्ज हुई जब खरगोन के एस डी ओ पी राकेश मोहन शुक्ला ने कम्पनी के बयान लिए तो कम्पनी ने कहा हमने कोई पैंपलेट नही दिया , मित्रो आज से 27 साल पहले रवि शंकर ने 150 रुपए की कम राशि भी लेने से परहेज नही किया और 22 हजार शेयर होल्डर से 34 करोड़ रुपए इकठ्ठे कर लिए , फिर इन पैसे को इसने ब्याज पर शेयर होल्डर को 12 कोरे चेक लेकर दिया , किस्त लेट पर 250 रुपए दंड , लोन न देने पर 138 धारा का गलत उपयोग कर अपनी कम्पनी के शेयर होल्डर को ही कोर्ट से 6 साल की सजा करवा दी , खरगोन जिले के गरीब लोग , गरीब किसान , छोटे गरीब व्यापारी और गरीब मजदूरों से 34 करोड़ इकठ्ठे कर रवि शंकर ने प्रकाश स्मृति कम्पनी की 6 प्रापर्टी खरीदी है , एक करोड़ रुपया पी सी फाउंडेशन कम्पनी को भूमी खरीदने को दिया है , रविशंकर ने तंजीम ए जरखेज उर्दू नाम से कम्पनी बनाई जिसमे खरगोन डायरेक्टर सात महाजन है , कम्पनी का मेनेजर जाकिर शेख को बनाया जबकि खरगोन शहर में हिंदू और मुसलमान के दंगे होते रहे है , रणजीत और रवि भारतीय जनता पार्टी के लोग है , 27 सालो में कम्पनी के आयोजन भारतीय जनता पार्टी के रहे , तीनो कम्पनी की शिकायत भोपाल के ई ओ डब्ल्यू ने भी दर्ज की है , शिकायत करने वालो के इंदौर बयान भी हो गए है अब 20 लोगो के बयान करवाना है , विधान सभा चुनाव से पहले रणजीत और रवि शंकर पर ठोस कार्यवाही शिवराज ने नही की तो तीन कम्पनी के हजारों वोट भारतीय जनता पार्टी के विरुद्ध जाएंगे , तीनो कम्पनी के विरुद्ध शिकायत कर्ताओ की प्रतिदिन मीटिंग हो रही है और विधानसभा में ग्वालियर से पंजीकृत कम्पनी एक्ट की कम्पनी के बारे में संपूर्ण मध्यप्रदेश में मुहीम चलाई जाएगी , जिस कम्पनी को ग्वालियर रजिस्ट्रार ने 100 प्रतिशत लाभ धर्मार्थ कार्यों में खर्च का लिखा है उस कम्पनी ने गरीबों के पैसे से भूमाफिया का काम किया है , क्या भारतीय जनता पार्टी इसलिए कार्यवाही नही कर रही क्युकी कम्पनी में डायरेक्टर बी जे पी के है ? खरगोन जिले में भारतीय जनता पार्टी का केवल एक नेता साफ सुथरा है और वो है बालकृष्ण पाटीदार , यदि बालकृष्ण पाटीदार को या नितिन को टिकिट नही दिया तो पूरे छ विधायक बी जे पी खो देगी , मैं भारतीय जनता पार्टी की विचारधारा का समर्थक हु इसलिए शीर्ष स्तर के नेताओ से अपील करूंगा की तीन कम्पनी के मामले को गंभीरता से ले , जो आठ कर्मचारी निकाले है उन्हे वापस ले , 90 हजार की तनखा लेने वाले ने कम्पनी की गलत नीयत को देखते हुए जो नोकरी छोड़ी उन्हे वापस लगावे , 27 साल पहले जो कम्पनी ने पेपर पर वादा किया उसे पूरा करे , मौत पर शेयर होल्डर के पैसे से दान ना मांगे , किस्त लेट पर 250 दंड बंद करे , कोरे चेक लेना बंद करे , लोन की प्रक्रिया बिलकुल सरल करे , लोन सभी सदस्यो को दे , अपने परिचित और रिश्तेदार को अधिक राशि के और जल्दी लोन नही दे , भेदभाव ना करे , कम्पनी के शेयर होल्डर का सम्मान करे , गरीबों से अच्छा व्यवहार करे ! संतोष न्यूज खरगोन !

Leave a Comment